+

अतीक की खबर सुन गुड्डू मुस्लिम ने फोन किया ऑन और इस शख्स को किया कॉल, लोकेशन मिली

Atiq Ahmed Murder: उमेश पाल हत्याकांड के बाद से फरार चल रहे 5 लाख रुपये के इनामिया बदमाश गुड्डू मुस्लिम उर्फ गुड्डू बमबाज के बारे में पुलिस को एक अहम जानकारी मिली है. पुलिस के अनुसार, माफिया अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की हत्या की बाद गुड्डू ने अपना फोन ऑन किया था, जिसके […]
featuredImage

Atiq Ahmed Murder: उमेश पाल हत्याकांड के बाद से फरार चल रहे 5 लाख रुपये के इनामिया बदमाश गुड्डू मुस्लिम उर्फ गुड्डू बमबाज के बारे में पुलिस को एक अहम जानकारी मिली है. पुलिस के अनुसार, माफिया अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की हत्या की बाद गुड्डू ने अपना फोन ऑन किया था, जिसके बाद उसकी लास्ट लोकेशन की जानकारी मिल गई. ऐसी जानकारी मिली है कि गुड्डू ने फोन ऑन कर अतीक की मौत की जानकारी ली थी. बता दें कि गुड्डू मुस्लिम पर आरोप है कि जब उमेश पाल पर गोलियां बरसाई जा रहीं थी, तब वह मौके पर बमबाजी कर रहा था.

अब तक क्या-क्या सामने आया?

आपको बता दें कि अतीक से जुड़े कई अहम राज जानने के लिए पुलिस गुड्डू की सरगर्मी से तलाश कर रही है. खास तौर पर अतीक के आईएसआई (पाकिस्तान की सबसे बड़ी इंटेलीजेंस सेवा) लिंक के बारे में गुड्डू से गहन पूछताछ की जानी है. पुलिस के अनुसार, अतीक की मौत की जानकारी लेने के लिए गुड्डू ने जब अपना फोन ऑन किया था, तब उसकी लास्ट लोकेशन कर्नाटक में मिली थी. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, गुड्डू ने फोन को ऑन करके वॉट्सऐप कॉल पर किसी परिचित से बात की थी.

इससे पहले गुड्डू मुस्लिम की लोशन राजस्थान के अजमेर में मिली थी. इसके बाद गुड्डू ने अपना फोन ऑफ कर लिया था, फिर जब उसने अपना फोन ऑन किया तो वह कर्नाटक में पाया गया. बता दें कि यूपी एसटीएफ अब गुड्डू मुस्लिम को लेकर लगातार छापेमारी कर रही है. एसटीएफ ने पुलिस सर्विलांस सहित कर्नाटक पुलिस से संपर्क कर सर्च अभियान तेज कर दिया है.

15 अप्रैल को हुई थी अतीक और अशरफ की हत्या

गौरतलब है शनिवार, 15 अप्रैल की तारीख को उत्तर प्रदेश में एक बड़ी घटना घटी. इन दिन पूर्व सांसद और माफिया अतीक और उसके छोटे भाई अशरफ की प्रयागराज में गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई. यह वारदात तब घटी, जब पुलिस दोनों भाइयों को प्रयागराज के एक अस्पताल में मेडिकल चेकअप के लिए ले जा रही थी. ध्यान देनी वाली बात यह है कि अतीक की हत्या उस दिन हुई, जिस दिन उसके तीसरे नंबर के बेटे असद को सुपुर्द-ए-खाक किया गया था. दरअसल, उमेश पाल मर्डर केस में 5 लाख रुपये का इनामिया असद फरार चल रहा था, जिसका 13 अप्रैल को झांसी में UPSTF ने एनकाउंटर कर दिया था.

Whatsapp share
facebook twitter